महाभारत के सबसे बड़े विलेन शकुनी का मंदिर कहाँ स्थित है? जानिये….

महाभारत के सबसे बड़े विलेन शकुनी का मंदिर कहाँ स्थित है जानिये....

भारत में कई जगाहे ऐसी है जहा पर उन लोगो लोगो को पूजा जाता है जिन्होंने बुरे का साथ दिया था| जैसे की रामायण में मुख्य पात्र लंकापति रावण की कई राज्यों में आज भी पूजा की जाती है| आप सभी ने महाभारत जरूर पढ़ी होगी या फिर टीवी में महाभारत जरूर देखि होगी| महाभारत में शकुनी का कार्य केवल शाध्यंत्र रचना ही था| शकुनी ने ही कौरवों को महाभारत के युद्ध में धकेला जिनके कारण उनके पुरे कुल का विनाश हो गया था | यह सब होने के बावजूद भी शकुनी मामा को कराल का एक समुदाय आज भी पूजता है|

केरल के पास स्थित है शकुनी का मंदिर

केरल के कोल्लम में स्थित मायम्कोट्टू मलंचारुवु मलनाड मंदिर में शकुनी की पूजा होती है| फ़िलहाल में उस स्थान को पवित्रेश्वरम के नाम से जाना जाता है|

क्यों होती है शकुनी की पूजा

महाभारत के अनुसार, कुरुक्षेत्र मे हुए युद्ध के लिए शकुनी को मुख्य रूप स जिम्मेदार माना गया है| उन्होंने पांडवो के खिला कई षड़यंत्र किये| लेकिन सनातन धर्म के हिसाब से देखा जाए तो शकुनी ने कई सात्विक चीजे भी की थी इसी कारण से शकुनी की पूजा की जाती है|

कैसे की जाती है पूजा

कोल्लम स्थित मायम्कोट्टू मलंचारुवु मलनाड मंदिर में शकुनी को बड़े मान सम्मान के साथ पूजन किया जाता है| शकुनी को नारियल, रेशम व ताड़ी चढ़ाई जाती है। इस स्तःन पर मलक्कुडा महोलसवम नामक साल में एक एक बार उत्सव मनाया जाता है|

लोग पत्थर की करते है पूजा

शकुनी के मंदिर में उनकी कोई मूर्ति नहीं वह पर लोग पत्थर कु पूजा करते है| कहा जाता है उस पत्थर को शकुनी ने शिव के आराधना के लिए प्रयोग में लिया था|

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top