सरकारी नौकरी करने वाले पिता ने मृत बेटी की याद में खड़ी कर दी करोड़ो की ‘निरमा’ कंपनी।

nirma washing powder story

गुजरात ने देश को कई बड़े उद्द्योग पति दिए है। आज हम आपको वहा के रहने वाले करसनभाई पटेल की कहानी बताने जा रहे है। जिन्होंने एक बड़ी कम्पनी को अपनी बेटी की याद में बनाया और आज वह कम्पनी देश की जानी मानी कम्पनियो में से एक है। आइये जानते है इनकी पूरी कहानी को। 

कौन है करसनभाई पटेल

Nirma washing powder owner

करसनभाई पटेल गुजरात के अहमदाबाद में रहने वाले एक शख्स है, करसनभाई का जन्म 13 अप्रैल 1944 को गुजरात के मेहसाणा शहर के एक किसान परिवार में हुआ जिन्होंने अपने घर में ही डिटर्जेंट पाउडर को बनाना शुरू किया था, जिसने आज एक बड़ा रूप ले लिया है। करसनभाई पटेल की कहानी अन्य व्यापरियो से बिलकुल अलग है। यह एक सरकारी कर्मचारी के रूप में कार्य कर रहे थे, लेकिन इनके जीवन में एक ऐसी घटना घटी जिसके बाद उन्होए इतनी बड़ी कम्पनी बना ली। 

हेमा रेखा जया और सुषमा… सबकी पसंद…

Karsan bhai patel story

हेमा रेखा जया और सुषमा… सबकी पसंद निरमा इस ऐड को हम सभी ने कभी न कभी टीवी पर जरूर देखा है। इसके पीछे  करसनभाई पटेल है, इन्होने 1969 में केवल एक व्यक्ति द्वारा शुरू की गयी कंपनी को आज लगभग 18000 लोग की कंपनी में बदल दिया है। आज इस कंपनी का टर्नओवर 70000 करोड़ से भी ज़्यादा है। करसन भाई पटेल के द्वारा एक कमरे में बनाया गया वॉशिंग पाउडर ‘निरमा’ आज देश भर में उपयोग किया जाता है। इन्होने अपने सर्फ को बेचने के लिए हेमा रेखा जया और सुषमा… सबकी पसंद…निरमा लाइन का उपयोग किया था। 

वो हादसा जिसने बना दी निरमा कम्पनी

Karsan bhai patel success story

करसनभाई पटेल जब नौकरी कर रहे थे, उस दौरान इनकी एक बेटी थो हो एक हादसे का शिकार हो गयी थी। जिसको प्यार से यह निरमा कहकर पुकारते थे। इस हादसे के बाद उन्हें एक ऐसा उपाय सूझा था, जिससे वह अपनी बेटी को वापस ला सकते थे और उसे लेकर देखा हुआ सपना भी पूरा कर सकते थे। उन्होंने खुद से वाशिंग पाउडर बनाने के बारे में सोचा और उसका नाम निरमा रखा। ऐसे करने के पीछे उनकी बेटी के नाम को प्रसिद्धि दिलाना थी। 

उनके घर की स्थति ऐसी नहीं थी कि वह खुद के दम पर कोई नया काम शुरू कर सकें, उन्होंने अपने घर के पीछे ही सर्फ बनाने का काम शुरू किआ और उसकी मार्केटिंग करने लगे। शुरुआत में उन्होंने घर घर जाकर सर्फ को बेचा। उन्होंने अपना सर्फ 3 रूपए किलो में बेचना शुरू किया जब अन्य कम्पनिया 12 रूपए किलो तक सर्फ बेच रही थी। 

इस तरह से उन्होंने निरमा सर्फ की शुरुआत की और आज यह देश की एक बड़ी सर्फ कम्पनी के रूप में हमारे सामने है, जिसका सालाना टर्नओवर करोड़ो रूपए में।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top