आखिर कैसे किया जाता है बहती नदी के बीचों-बीच लंबे पुल का निर्माण, आज जान लीजिए…

gk question

आपने अक्सर कई बार देखा होगा या तो फिल्मो में या फिर अपने वास्तविक जीवन में, की नदी के बीचो बिच पूल बने होते है और उन्हें देख कर हम सोचते है की आखिर बहती नदी के बिच पूल का निर्माण कैसे हुआ होगा, ये तो सरल सी बात है की नदी के बिच पूल का निर्माण कोई आसान काम तो होगा नहीं।

ndi me bridge kaise bnate hai

आज के आर्टिकल में हम आपको यही बताने जा रहे है की ऐसी कौन सी तकनीक है जिससे यह सम्भव हो पाता है। आप जानते होंगे की नदी पर कई प्रकार के ब्रिज बनाये जाते है जैसे Beam और Suspension ब्रिज, जब कोई नदी के बिच पूल का निर्माण होता है उसे पहले इसकी अच्छे से रिसर्च की जाती है जैसे की ब्रिज कितना भार सहन कर सकता है या फिर नदी का पानी कितना गहरा है और नदी की मिटटी किस तरह की है।

ndi me bridge kaise bnate hai

जब ये रिसर्च पूरी हो जाती है तो पूल का प्लान तैयार होता है और उसके बाद उसकी नीव रखी जाती है जिसे Cofferdam कहते है और यह एक ड्रम जैसा होता है और उन्हें करें की मदद से नदी में लगाया जाता है। आपको बता दे की Cofferdam बड़े मजबूत होते है और इनमे पानी नहीं घुस पाता है और अगर नदी गहरी हो तो Cofferdam का यूज़ नहीं किया जाता है।

ndi me bridge kaise bnate hai

ये तो जाहिर सी बात है की ऐसे नदियों पर पूल बनाने से पहले इंजीनयर अच्छे से रिसर्च करते है फिर काम करते है। पूल के निर्माण के लिए ब्लॉक्स बनाये जाते है और दूसरी साइट पर तैयार किया जाता है जिसके बाद इन ब्लॉक्स को नदी में बनाए गए पीलर्स के बीच में लगा दिया जाता है। आपको बता दे की कई पूल बिना पिलर के होते है जो लग प्रक्रिया से बनाये जाते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top